Total Pageviews

18 October 2017

दूध की कीमतों पर सरकारी नियंत्रण!

सरकार दूध की कीमतों पर लगाम लगाने की तैयारी में है। कृषि मंत्रालय ने मत्रियों के समूह को दूध को आवश्यक वस्तु अधिनियम में शामिल करने का प्रस्ताव भेजा है। आवश्यक वस्तु अधिनियम में आने से दूध के भाव पर सरकारी नियंत्रण होगा। इस कदम से किसानों और ग्राहकों को फायदा होगा। नंवबर से मार्च तक दूध की सप्लाई बढ़ जाती है। लिहाजा सरकार के दूध के भाव के लिए प्रस्तावित प्राइस स्टेबलाइजेशन फंड से किसानों को मदद मिल सकती है।

चीनी की कीमतों में दीपावली बाद आयेगी गिरावट, बकाया स्टॉक कम

आर एस राणा
नई दिल्ली। चीनी की कीमतें उत्पादक राज्यों में स्थिर बनी हुई है। दिल्ली में चीनी के भाव 4,050 से 4,100 रुपये प्रति क्विंटल रहे। दीपावली के बाद चीनी की कीमतों में गिरावट आने का अनुमान है, हालांकि चालू पेराई सीजन के आरंभ में चीनी का बकाया स्टॉक पिछले साल की तुलना में कम रहेगा।
इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएषन (इस्मा) के अनुसार चालू पेराई सीजन 2017-18 के आरंभ में चीनी का बकाया स्टॉक केवल 40 लाख टन का ही बचेगा जबकि पिछले साल नए पेराई सीजन के आरंभ में बकाया स्टॉक 77.50 लाख टन का था।
पेराई सीजन 2016-17 में चीनी की खपत 245 लाख टन की हुई थी, जबकि उत्पादन 203 लाख टन का हुआ था। केंद्र सरकार ने शुन्य शुल्क पर 5 लाख टन चीनी के आयात को मंजूरी दी थी। कृषि मंत्रालय के अनुसार चालू सीजन में गन्ने के बुवाई क्षेत्रफल में बढ़ोतरी हुई है इसलिए चीनी का उत्पादन ज्यादा होने का अनुमान है। ......  आर एस राणा

ब्रेंट का दाम 58 डॉलर के पार

कच्चे तेल में तेजी आई है और ब्रेंट का दाम 58 डॉलर के पार चला गया है। वहीं नायमैक्स क्रूड में 52 डॉलर के ऊपर कारोबार हो रहा है। अमेरिका में कच्चे तेल का भंडार 71 लाख बैरल गिर गया है। वहीं अमेरिका और ईरान के बीच तनाव के बीच इराक से भी कच्चे तेल की सप्लाई में कमी की अशंका है। ऐसे में क्रूड की कीमतों को दोहरा सपोर्ट मिला है। कल की गिरावट के बाद आज सोने में भी रिकवरी आई है और कॉमैक्स पर सोना 1 हफ्ते के निचले स्तर से करीब 0.25 फीसदी ऊपर कारोबार कर रहा है। वहीं चांदी में करीब 0.5 फीसदी की रिकवरी आई है।

17 October 2017

18 अक्टूबर 2017 का मौसम पूर्वानुमान

बंगाल की खाड़ी के मध्य पश्चिम में एक निम्न दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। यह सिस्टम आने वाले समय में और प्रभावशाली होते हुए डिप्रेशन बन सकता है। यह सिस्टम 19 अक्तूबर को उत्तरी आंध्र प्रदेश और दक्षिणी ओड़ीशा के बीच से ज़मीनी हिस्सों पर पहुंचेगा।
कर्नाटक के तटीय हिस्सों के करीब अरब सागर के मध्य पूर्व में भी एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है।
बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में बने इन दोनों मौसमी सिस्टमों को एक ट्रफ रेखा जोड़ रही है।
जम्मू कश्मीर के पूर्वी भागों पर एक पश्चिमी विक्षोभ बना हुआ है।
पिछले 24 घंटों के दौरान कोंकण गोवा और उत्तरी आंतरिक कर्नाटक में कुछ स्थानों पर मध्यम से भारी वर्षा रिकॉर्ड की गई है।
तमिलनाडु, केरल, अंडमान व निकोबार द्वीपसमूह तथा लक्षद्वीप में अधिकांश स्थानों पर गरज के साथ हल्की से मध्यम बौछारें दर्ज की गई हैं।
नागालैंड, मणिपुर, मिज़ोरम और त्रिपुरा में भी एक-दो स्थानों पर वर्षा दर्ज की गई।
पिछले 24 घंटों के दौरान मुंबई में 32 मिलीमीटर वर्षा हुई। चेन्नई में 24 और गोवा में 21 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई।
उत्तरी तमिलनाडु, रायलसीमा, तटीय आंध्र प्रदेश, तेलंगाना के कुछ भागों, तटीय कर्नाटक, उत्तरी केरल, दक्षिणी कोंकण व गोवा तथा आंतरिक कर्नाटक में हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है।
तटीय ओड़ीशा, नागालैंड, मणिपुर, मिज़ोरम और त्रिपुरा में कुछ स्थानों पर हल्की बारिश हो सकती है।
देश के बाकी सभी भागों में बारिश के आसार ना के बराबर हैं, यानि शेष सभी हिस्सों में मौसम शुष्क बना रहेगा।.....www.skymet.com

16 October 2017

सितंबर में वनस्पति तेलों का आयात 9 फीसदी बढ़ा

आर एस राणा
नई दिल्ली। सितंबर महीने में वनस्पति तेलों के आयात में 9 फीसदी की बढ़ोतरी होकर कुल आयात 1,519,277 टन का हुआ है जबकि पिछले साल सितंबर में 1,399,993 टन का आयात हुआ था।
साल्वेंट एक्सट्रेक्टर्स एसोसिएशन आफ इंडिया (एसईए) के अनुसार सितंबर में हुए कुल आयात में 1,501,283 टन खाद्य तेलों का और 17,994 टन अखाद्य तेलों का आयात हुआ है तथा चालू तेल वर्ष (नवंबर-16 से अक्टूबर-17) के पहले 11 महीने में से किसी एक महीने में वनस्पति तेलों का आयात सितंबर में सबसे ज्यादा हुआ है। चालू तेल वर्ष के पहले 11 महीनों में वनस्पति तेलों का आयात 5 फीसदी बढ़कर कुल आयात 14,268,845 टन का हुआ है जबकि पिछले तेल वर्ष की समान अवधि में इनका आयात 13,565,548 टन का हुआ था।
आयातित वनस्पति तेलों की कीमतों में अगस्त के मुकाबले सितंबर महीने में बढ़ोतरी हुई है, हालांकि पिछले साल के सितंबर के मुकाबले भाव नीचे ही हैं। अगस्त महीने में भारतीय बंदरगाह पर आरबीडी पामोलीन का भाव 684 डॉलर प्रति टन था जोकि सितंबर में बढ़कर 729 डॉलर प्रति टन हो गया। इसी तरह से क्रुड पॉम तेल का भाव सितंबर में बढ़कर 730 डॉलर प्रति टन हो गया, जबकि अगस्त में इसका भाव 670 डॉलर प्रति टन था। क्रुड सोयाबीन तेल का भाव अगस्त के 813 डॉलर प्रति टन से बढ़कर सितंबर में 836 डॉलर प्रति टन हो गया। ........आर एस राणा

डॉलर के मुकाबले रुपये में कमजोरी

 आज डॉलर के मुकाबले रुपये में कमजोरी देखी जा रही है। डॉलर की कीमत 64.90 रुपये के पास है। ग्लोबल मार्केट में सोने में बेहद छोटे दायरे में कारोबार हो रहा है। कल 1300 डॉलर का स्तर छूने के बाद इसमें दबाव दिखा है और फिलहाल ये 1295 डॉलर के नीचे कारोबार कर रहा है। चांदी में हालांकि तेजी जारी है और इसका दाम 17 डॉलर के ऊपर है। कच्चे तेल की तेजी पर ब्रेक लग गया है।

गुजरात में मूंगफली का उत्पादन ज्यादा होने का अनुमान

आर एस राणा
नई दिल्ली। चालू खरीफ में प्रमुख उत्पादक राज्य गुजरात में मूंगफली का उत्पादन बढ़कर 31.45 लाख टन होने का अनुमान है जबकि पिछले साल खरीफ सीजन में राज्य में 29.40 लाख टन का ही उत्पादन हुआ था।
साल्वेंट एक्सट्रेक्टर्स एसोसिएशन आफ इंडिया (एसईए) के अनुसार चालू खरीफ में मूंगफली की बुवाई राज्य में पिछले साल की तुलना में घटी है, इसके बावजूद भी उत्पादन पिछले साल की तुलना में बढ़ने की संभावना है। कृषि मंत्रालय के अनुसार चालू खरीफ सीजन में गुजरात में मूंगफली की बुवाई घटकर 16 लाख हैक्टेयर में ही हुई है जबकि पिछले साल राज्य में 16.42 लाख हैक्टेयर में मूंगफली की बुवाई हुई थी।.............  आर एस राणा