Total Pageviews

20 September 2017

गुजरात में ग्वार सीड की बुवाई कम

आर एस राणा
नई दिल्ली। चालू सीजन में गुजरात में ग्वार सीड की बुवाई घटकर अभी तक केवल 1.98 लाख हैक्टेयर में ही हो पाई है, जबकि पिछले साल की समान अवधि में इसकी बुवाई 2.21 लाख हैक्टेयर में हो चुकी थी।
चालू सीजन में किसानों ने ग्वार सीड के बजाए कपास, दलहन के साथ ही अन्य नगदी फसलों की बुवाई को तरजीह दी है, इसीलिए ग्वार सीड की बुवाई में कमी आई है। गुजरात में सामान्य ग्वार सीड की बुवाई 2.92 लाख हैक्टेयर में होती है।................   आर एस राणा

रबी में 97.5 लाख टन चना उत्पादन का लक्ष्य, अरहर का उत्पादन घटने की आशंका

आर एस राणा
नई दिल्ली। कृषि मंत्रालय ने रबी सीजन 2017-18 में चना उत्पादन का लक्ष्य 97.5 लाख टन का लाख टन का तय किया है जबकि चौथे आरंभिक अनुमान के अनुसार फसल सीजन 2016-17 में चना का उत्पादन 93.3 लाख टन का हुआ था।
कृषि मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार फसल सीजन 2017-18 में मध्य प्रदेश में चना के उत्पादन का लक्ष्य 35 लाख टन का तय किया गया है, इसके अलावा महाराष्ट्र में 16.50 लाख टन, राजस्थान में उत्पादन का लक्ष्य 15 लाख टन, उत्तर प्रदेश में 7.15 लाख टन,
कर्नाटका में 6.82 लाख टन, आंध्रप्रदेश में 5 लाख टन, छत्तीसगढ़ में 3 लाख टन, गुजरात में 2.20 लाख टन, हरियाणा में 1.05 लाख टन और और झारखंड में 2.20 लाख टन उत्पादन का लक्ष्य तय किया है।
जानकारों के अनुसार चालू खरीफ सीजन में देश के कई राज्यों में बारिश सामान्य से काफी कम हुई है, इसका असर चना की बुवाई पर भी पड़ेगा। कर्नाटका, महाराष्ट्र के साथ ही मध्य प्रदेश और राजस्थान के कई जिलों में बारिश सामान्य से कम हुई है।
कृषि मंत्रालय ने रबी सीजन 2017-18 में मूंग के उत्पादन का लक्ष्य 6.50 लाख टन का तय किया है, इसके अलावा रबी सीजन में मंत्रालय ने 7.60 लाख टन उड़द के उत्पादन का लक्ष्य तय किया है। मंत्रालय ने चालू खरीफ में उड़द के उत्पादन का लक्ष्य 42.50 लाख टन का तय किया है। हालांकि चालू खरीफ में अरहर की बुवाई में पिछले साल की तुलना में 9 लाख हैक्टेयर से भी ज्यादा कमी आई है, ऐसे में अरहर का उत्पादन मंत्रालय द्वारा तय लक्ष्य से कम होने की आशंका है।...........   आर एस राणा

19 September 2017

सोने-चांदी में बढत

अमेरिका में फेडरल रिजर्व के बयान से पहले सोने-चांदी में बढत लौटी है। इंटरेस्ट रेट और बैलेंस शीट ट्रिमिंग को लेकर किसी तरह के सरप्राइज नहीं होने के उम्मीद में सोने में भरोसा लौटा है। बीते सेशन अमेरिकी राष्ट्रपति ने नॉर्थ कोरिया को तबाह करने की धमकी दी है। जिससे राजनैतिक संकट फिर से सिर उठाने लगा है। इस वजह से सोने में सेफ हेवेन अपील लौटती दिखी है। कच्चे तेल में भी बढत पर कारोबार जारी है। एपीआई के डाटा से क्रूड को सहारा मिला है। कच्चे तेल के स्टॉक में उम्मीद से कम बढ़त से सहारा मिला है।

20 सितंबर 2017 के लिए मॉनसून पूर्वानुमान

भारत के पश्चिमी तटों और मध्य भागों में मॉनसून व्यापक रूप में सक्रिय। इसके चलते कोंकण गोवा, तटीय कर्नाटक, केरल के कुछ हिस्सों, ओड़ीशा और दक्षिणी छत्तीसगढ़ के कुछ भागों में भारी बारिश हुई है। मध्य प्रदेश, दक्षिणी गुजरात, गंगीय पश्चिम बंगाल, मेघालय और मणिपुर में कई स्थानों पर जबकि उत्तर-पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में कुछ जगहों पर मॉनसून की सक्रियता के चलते अच्छी वर्षा दर्ज की गई।
पिछले 24 घंटों के दौरान हुई बारिश के आंकड़ों से ऐसा लगता है जैसे कई इलाकों की बारिश एक ही स्थान पर हो गई है। यहाँ मौसम केंद्र ने 374 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की। चंदबाली में 120 और महाबलेश्वर में 116 मिलीमीटर बारिश हुई है।
हालांकि देश भर में बारिश अभी भी सामान्य से पीछे है और 18 सितंबर तक कुल बारिश का आंकड़ा सामान्य से 6 प्रतिशत कम पर रहा। पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत में सामान्य से 3 फीसदी कम, उत्तर पश्चिम भारत में सामान्य से 10 प्रतिशत कम और मध्य भारत में सामान्य से 8 प्रतिशत कम वर्षा हुई है। दक्षिण भारत में सामान्य बारिश हुई है।
मॉनसून की अक्षीय रेखा इस समय पठानकोट, चंडीगढ़, हरदोई, जमशेदपुर, बालासोर होते हुए बंगाल की खाड़ी में बनी हुई है।
इस परिप्रेक्ष्य में दक्षिण-पश्चिमी मध्य प्रदेश और विदर्भ क्षेत्र में अगले 24 घंटों के दौरान मॉनसून की व्यापक सक्रियता रहेगी और इन भागों में भारी से अति भारी वर्षा देखने को मिल सकती है।
कोंकण गोवा, उत्तरी तटीय कर्नाटक, विदर्भ, मराठवाडा, तेलंगाना, मध्य प्रदेश के शेष भागों, छत्तीसगढ़, ओड़ीशा के कुछ हिस्सों, बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश के मध्य तथा पूर्वी हिस्सों में भी मॉनसून सक्रिय रहेगा। इन भागों में हल्की से मध्यम वर्षा के आसार हैं।
तटीय ओड़ीशा, नागालैंड, मणिपुर, मिज़ोरम, त्रिपुरा, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम और उत्तराखंड के कुछ इलाकों में सामान्य मॉनसूनी बारिश देखने को मिल सकती है। आंतरिक कर्नाटक, केरल, तेलंगाना, तटीय आंध्र प्रदेश, मध्य महाराष्ट्र और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भी कुछ स्थानों पर हल्की वर्षा होने की संभावना है।............www.skymet.com

ओएमएसएस के 10.71 लाख टन गेहूं की निविदा आमंत्रित

आर एस राणा
नई दिल्ली। भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) ने खुले बाजार बिक्री योजना (ओएमएसएस) के तहत बेचने के लिए 10.71 लाख टन गेहूं की निविदा आमंत्रित की है। निविदा भरने का न्यूनतम भाव 1,790 रुपये प्रति क्विंटल तय किया हुआ है, हालांकि उत्पादक राज्यों की मंडियों में गेहूं के भाव भारतीय खाद्य निगम के बिक्री भाव से नीचे होने के कारण एफसीआई से फ्लोर मिलें खरीद नहीं कर रही है।
एफसीआई ने हरियाणा से 3.71 लाख टन गेहूं बेचेने की निविदा मांगी हैं, इसके अलावा महाराष्ट्र से 2.99 लाख टन, पंजाब से 1,40 लाख टन, मध्य प्रदेश से एक लाख टन, तमिलनाडु से 40 हजार टन, राजस्थान से 20 हजार, कर्नाटका से 19,300 टन, दिल्ली से 16 हजार टन, केरल से 14 हजार टन, गुजरात से 11 हजार टन गेहूं बेचने के लिए निविदा मांगी हैं। ....................   आर एस राणा


पूसा बासमती 1,509 धान की आवक बढ़ी, भाव में मंदे की उम्मीद

आर एस राणा
नई दिल्ली। प्रमुख उत्पादक राज्यों की मंडियों में पूसा 1,509 धान की दैनिक आवक बढ़कर करीब डेढ़ लाख बोरी की हो गई है तथा उत्पादक मंडियों में इसके भाव 2,200 से 2,400 रुपये प्रति क्विंटल क्वालिटीनुसार चल रहे है। पूसा बासमती 1,509 सेला चावल का भाव 5,700 रुपये प्रति क्विंटल है, इसीलिए धान के भाव उंचे हैं। आगे पूसा 1,509 धान के साथ ही परमल की दैनिक आवक भी बढ़ेगी, इसलिए इसके भाव में 200 से 300 रुपये प्रति क्विंटल की गिरावट आने का अनुमान है। परमल धान के भाव मंडियों में 1,400 से 1,500 रुपये प्रति क्विंटल रहे।
पहली अक्टूबर से धान की सरकारी खरीद पंजाब के साथ ही हरियाणा में चालू हो जायेगी, तथा नवंबर में पूसा 1,121 बासमती धान की आवकों का दबाव बनेगा। हालांकि व्यापारियों के अनुसार चालू सीजन में इसके भाव तेज खुलने की संभावना है। पूसा 1,121 बासमती धान की खरीद भाव 2,400-2,500 रुपये प्रति क्विंटल से नीचे आने पर ही करनी चाहिए। ...................   आर एस राणा

18 September 2017

कच्चे तेल में तेजी जारी

कच्चे तेल में तेजी जारी है और ग्लोबल मार्केट में ब्रेंट का दाम 55 डॉलर के ऊपर बना हुआ है। अगस्त में सऊदी अरब का क्रूड एक्सपोर्ट घट गया है। अमेरिका में शेल क्रूड का उत्पादन बढ़ने का अनुमान है। ऐसे में ऊपरी स्तर से दबाव भी शुरू हो गया है। डॉलर के मुकाबले रुपये में हल्की कमजोरी है और 1 डॉलर की कीमत 64 रुपये के ऊपर बना हुई है। अमेरिका में आज से फेडरल रिजर्व की अहम बैठक शुरू होगी और इससे पहले सोने की चमक फीकी पड़ गई है। कॉमैक्स पर सोने का दाम 1310 डॉलर के नीचे फिसल गया है जो पिछले 3 हफ्ते का निचला स्तर है। वहीं चांदी में भी तेज गिरावट आई है और इसका दाम 17.20 डॉलर के नीचे आ गया है।