Total Pageviews

05 August 2017

बाजरा की बुवाई बढ़ी, मक्का और ज्वार की पिछड़ी

आर एस राणा
नई दिल्ली। चालू खरीफ में जहां बाजरा की बुवाई में भारी बढ़ोतरी हुई है, वहीं मक्का के साथ ही ज्वार की बुवाई पिछले साल की तुलना में कम हुई है। कृषि मंत्रालय के अनुसार चालू खरीफ में मोटे अनाजों की बुवाई बढ़कर 63.50 लाख हैक्टेयर में हो चुकी है जबकि पिछले साल की समान अवधि में इसकी बुवाई 54.95 लाख हैक्टेयर में ही हुई थी। उत्पादक मंडियों में बाजरा का भाव 1,050 से 1,150 रुपये प्रति क्विंटल चल रहे हैं, चालू खरीफ में बुवाई में तो बढ़ोतरी हुई है, साथ ही मौसम भी अनुकूल है इसलिए बाजरा की कीमतों में तेजी की संभावना नहीं है।
मक्का की बुवाई चालू खरीफ में घटकर 72.31 लाख हैक्टेयर में ही हो पाई है, जबकि पिछले साल की समान अवधि में इसकी बुवाई 76.97 लाख हैक्टेयर में हो चुकी थी। मक्का के भाव में चालू महीने में हल्का सुधार तो आ सकता है, लेकिन बड़ी तेजी की उम्मीद नहीं है। खरीफ मक्का की आवक सितंबर में चालू हो जायेगी, जबकि विदेशी बाजार में मक्का के भाव नीचे होने के कारण हमारे यहां से निर्यात पड़ते नहीं लग रहे हैं।
ज्वार की बुवाई चालू खरीफ में घटकर अभी तक केवल 14.70 लाख हैक्टेयर में ही हुई है जबकि पिछले साल इस समय तक इसकी बुवाई 16.73 लाख हैक्टेयर में हो चुकी थी। ज्वार के भाव उत्पादक मंडियों में 1,900 से 2,400 रुपये प्रति क्विंटल चल रहे हैं, सूत्रों के आगे इसके भाव में 50 से 100 रुपये की तेजी-मंदी बनी रहने का अनुमान है। रागी की बुवाई चालू सीजन में घटकर 3.68 लाख हैक्टेयर में ही हुई है, जबकि पिछले साल इस समय तक इसकी बुवाई 5.10 लाख हैक्टेयर में हो चुकी थी।
खरीफ में मोटे अनाजों की कुल बुवाई 156.95 लाख हैक्टेयर में हो चुकी है जबकि पिछले साल इस समय तक इनकी बुवाई 156.81 लाख हैक्टेयर में हुई थी।...............   आर एस राणा

No comments: